खबर

सरकार ने हमारे परिवार के साथ किया भेदभाव’, देवरिया कांड में मारे गए प्रेम यादव की बेटी ने सरकार पर ही उठाए सवाल

by | Oct 7, 2023 | अपना यूपी, क्राइम, बड़ी खबर

Deoria: देवरिया में एक दिल दहला देने वाली घटना में, एक ही परिवार के भीतर भूमि विवाद भयावह चरम पर पहुंच गया, जिसके परिणामस्वरूप एक ही परिवार के पांच सदस्यों सहित छह लोगों की जान चली गई। प्रेम यादव और सत्यप्रकाश दुबे के परिवारों ने खुद को एक कड़वे झगड़े में उलझा हुआ पाया, जिसके परिणामस्वरूप अंततः यह विनाशकारी परिणाम हुआ। पहली त्रासदी 2 अक्टूबर को हुई जब प्रेम यादव का दुखद अंत हुआ। जवाबी कार्रवाई में, प्रेम यादव के गुट के सदस्यों ने प्रतिशोध की मांग करते हुए सत्यप्रकाश दुबे और उनके परिवार के पांच अन्य सदस्यों की जान ले ली।

प्रेमचंद यादव की बेटी अर्चना ने लगाया पक्षपात का आरोप

प्रेमचंद यादव की बेटी अर्चना ने राज्य सरकार पर पक्षपात का गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है, “सरकार हमारे विरोधियों के साथ पक्षपात कर रही है. उन्हें हमारे घर भी आना चाहिए.” वह बताती हैं कि सत्यप्रकाश का बेटा देवाश वर्तमान में एक राजनीतिक नेता के घर में रह रहा है जो उनके मुद्दे का समर्थन करता है। अर्चना विनती करती हैं, “सरकार उन्हें नौकरी देने पर भी विचार कर रही है। उन्हें दोनों पक्षों की बात सुननी चाहिए।”

देवेश पर गंभीर आरोप

अर्चना ने सत्यप्रकाश के बेटे देवाश पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, “मेरे पिता की हत्या देवेश ने की थी। उस दिन सुबह मेरे पिता को कृषि कार्य से संबंधित एक फोन आया। उन्होंने केवल इतना ही बताया था। बाद में, वह खेत में चले गए।” यहीं पर देवाश ने हथियार से लैस होकर उन पर घात लगाकर हमला कर दिया। हमले के बाद देवाश मौके से भाग गया। उसी ने मेरे पिता की जान ली है।”

संपत्ति पर विवाद 

इस विवाद में संपत्ति का मुद्दा काफी अहम है. अर्चना जोर देकर कहती हैं, “मेरे दादाजी सेना में थे और उन्होंने ही सरकारी जमीन पर यह घर बनाया था। हम बचपन से इसी घर में रह रहे हैं। यह न केवल गांव वालों का बल्कि हमारे रिश्तेदारों का भी मामला है। कोई नहीं है।” पुरुष सदस्य गांव में ही रह गये. मालूम हो कि राजस्व विभाग ने प्रेमचंद यादव की संपत्ति पर कब्जे को लेकर नोटिस जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि घर सरकारी जमीन पर बना है.”

ये भी पढ़ें.. 

क्यों इतनी ताकतवर है इजराइल की आर्मी? एक ही समय पर तीन मोर्चों पर दुश्मनों को चटाई थी धूल

इस त्रासदी की जड़ें पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रेम यादव (50) और उनके प्रतिद्वंद्वी सत्यप्रकाश दुबे के बीच की कड़वी दुश्मनी में छिपी हैं। भूमि स्वामित्व को लेकर उनके विवाद ने तब घातक मोड़ ले लिया जब दुबे ने अपने परिवार के साथ मिलकर यादव के घर पर क्रूर हमला किया, जिससे उनकी दुखद मौत हो गई। जवाबी हमले में, यादव के समर्थकों ने दुबे, उनकी पत्नी किरण दुबे (52), और उनके बच्चों सलोनी (18), नंदिनी (10) और गांधी (15) की बेरहमी से जान ले ली, जिससे पूरा समुदाय सदमे और शोक में डूब गया।

 

अपना यूपी

क्राइम

आपका जिला

वीडियो

ट्रेंडिंग

बड़ी खबर